जनता की जान के साथ क्यों कर रहा खिलवाड़ जिला प्रशासन व नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र

नमस्ते इंडिया दूध के पांडू नगर स्थित रिटेल आउटलेट का डिलीवरी ब्वॉय निकला कोरोना पॉजिटिव

डिलीवरी ब्वॉय के कोरोना पॉजिटिव होने की बात बहुत ही सफाई से छुपा गया नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र

जन एक्सप्रेस से कमलेश फाइटर की विशेष रिपोर्ट
कानपुर नगर ।
नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र लगातार अपने रसूख के बल पर उसके कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की बात लगातार दबाता जा रहा है! कोविड-19 का प्रोटोकॉल और कानून सभी शहर वासियों पर तो लागू होता है! लेकिन नमस्ते इंडिया दूध के प्रबंध तंत्र पर यह कानून लागू नहीं होता! तभी तो नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र दूध के रूप में कोरोना संक्रमण की चपेट में आया दूध शहर में वितरित कर जनता की जान के साथ खिलवाड़ कर रहा है! और जिला प्रशासन मूक दर्शक बनकर देख रहा है!

नमस्ते इंडिया दूध की फैक्ट्री में लगातार कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने का दौर जारी है! खास बात यह है कि अब दहशत में काफी कर्मचारी काम छोड़कर जा भी चुके हैं! सूत्रों से मिली सटीक जानकारी के अनुसार बीते शनिवार को काकादेव क्षेत्र स्थित पांडू नगर में गुरुद्वारे के ठीक सामने रोड पर बने नमस्ते इंडिया दूध के रिटेल आउटलेट में काम करने वाला एक डिलीवरी ब्वॉय भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया! जैसे ही यह बात नमस्ते इंडिया दूध के प्रबंध तंत्र को पता चली उन्होंने आनन-फानन में वहां पर तैनात सभी कर्मियों को हिदायत दी कि वह सभी इस बात को कहीं खोलेंगे नहीं! और सख्त हिदायत देते हुए सभी कर्मचारियों को घर पर भेज दिया! हालांकि रिटेल आउटलेट को नहीं बंद किया गया! वहां पर दूसरे कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई है! हमारी मजबूरी है कि हमको रोना संक्रमित व्यक्ति के नाम को नहीं खोल सकते! लेकिन हम इतना जरूर बता रहे हैं कि इस रिटेल आउटलेट में डिलीवरी ब्वॉय का काम करने वाला लड़का जो कोरोना पॉजिटिव पाया गया है वह है गुमटी क्षेत्र का रहने वाला था! हालांकि नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र बड़ी ही सफाई से जो व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है उसके लिए कह देता है कि उक्त व्यक्ति तीन माह पहले ही काम छोड़कर जा चुका था! हद तो यहां तक है कि लगातार जिला प्रशासन के लोग फैक्ट्री में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि करते रहे लेकिन फैक्ट्री के प्रबंध तंत्र ने कभी भी यह पुष्टि नहीं की! अब वह दिन दूर नहीं है जब जिला प्रशासन की लापरवाही से नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र शहर को कोरोना मय कर देगा! जन एक्सप्रेस संवाददाता द्वारा नमस्ते इंडिया के एमडी व एजीएम से संपर्क सूत्र व मैसेज के माध्यम से डिलीवरी ब्वॉय के कोरोना पॉजिटिव होने का स्पष्टीकरण मांगा गया! लेकिन उनके द्वारा ना ही तो फोन उठाया गया और ना ही स्पष्टीकरण दिया गया! इससे यह साफ स्पष्ट हो चुका है कि डिलीवरी ब्वॉय कोरोना पॉजिटिव पाया गया है! सबसे बड़ा खतरा इस बात का है कि अगर यह इमानदारी करते हुए उसे सार्वजनिक करते तो यह पता चल सकता था कि उस डिलीवरी ब्वॉय द्वारा किसके घर जाकर दूध दिया गया था और कौन-कौन उसके संपर्क में आया है जिससे चेन का पता चल सकता!
शेष अगले अंक में


30 जुलाई को शिवराजपुर स्थित फैक्ट्री को सैनिटाइज कर 48 घंटे बंद करने का दिया झूठा विज्ञापन

जन एक्सप्रेस द्वारा लगातार जनहित में खबरों का प्रकाशन कर जनता को जागरूक करने एवं उनकी जान बचाने के लिए खबर के माध्यम से बताया जा रहा था कि नमस्ते इंडिया की शिवराजपुर स्थित दूध फैक्ट्री में बीती 21 जुलाई से फैक्ट्री के अंदर वहां कार्यरत कर्मचारियों का कोरोना पॉजिटिव पाया जाना आरंभ हो चुका है! इसके बाद भी फैक्ट्री को कोरोना प्रोटोकॉल के अंतर्गत 14 दिनों के लिए न ही तो सील किया गया और ना ही तो वहां पर कार्यरत कर्मचारियों को होम क्वॉरेंटाइन किया गया! हालांकि जनता पर इन खबरों का असर हो रहा था और लगभग- लगभग जनता ने नमस्ते इंडिया दूध से दूरी बनानी चालू कर दी थी! यह देखते हुए फैक्ट्री के प्रबंध तंत्र ने एक चाल सोंची, एक तथाकथित बड़े निजी अखबार में यह विज्ञापन प्रकाशित करवाया की हमारा दूध साफ सुथरा है कोविड-19 को देखते हुए 48 घंटे के लिए फैक्ट्री का उत्पादन बंद किया जा रहा है और फैक्टरी को सैनिटाइज किया जाएगा! लेकिन महज यह दिखावा था! इस फैक्ट्री की पोल शहर के कुछ पत्रकारों ने खोल कर रख दी जब उन्होंने फैक्ट्री से जिस तिथि में इन्होंने फैक्ट्री को बंद करना व सैनिटाइज करना बताया था! उसी तिथि में दूध निकलते हुए और शहर में बंटते हुए का वीडियो बना लिया! जिसके बाद यह स्पष्ट हो गया कि नमस्ते इंडिया दूध का प्रबंध तंत्र महज पैसा कमाना चाहता है और जनता की जान का उससे कोई सरोकार नहीं और जिला प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी भी उनका साथ दे रहे हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *