कैदियों तक राखी पहुंचाने की व्यवस्था जेल प्रशासन ने की

कोरोना संक्रमण के चलते जेल में बंद अपने भाइयों को बहने सीधे नहीं बांध सकेगी राखियां

जन एक्सप्रेस/सुनहरा
लखीमपुर खीरी।
बुधवार को जेल अधीक्षक रंग बहादुर पटेल ने बताया कि अगामी तीन अगस्त को रक्षाबन्धन का पर्व मनाया जाना नियत है, जिसके सापेक्ष में उक्त पर्व पर बंदियों से उनके परिजनों का मिलने आना स्वाभाविक पूर्व की परम्पराओं की भाँति सम्भावित है। वर्तमान में कोविड -19 संक्रमण का प्रसार पूरे प्रदेश में काफी विस्तारित रूप से हो रहा है जिसके कारण कारागार में निरुद्ध बंदियों की मुलाकात व्यवस्था पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। इसलिए कोविड -19 संक्रमण के प्रसार जिला कारागार खीरी निम्नवत सावधानिया की जाएंगी।उन्होंने बताया कि कारागार में निरुद्ध बंदियों की बहनें जो अपने भाईयों को राखी देना चाहती हैं वे रक्षाबन्धन के पर्व पर राखी, चन्दन, चावल आदि को एक लिफाफे में रख कर, जिस पर बंदी का नाम / पिता का नाम बैरक नं अंकित हो साथ ही सामग्री देने वाले का नाम व पता भी लिफाफे पर एक तरफ अंकित हो। दिनांक -01.08.2020 के सांयकाल 04:00 बजे तक स्वीकार किया जाएगा। प्राप्त सामग्री/लिफाफे को पूर्णतया सैनेटाइज करने के पश्चात बंदी को रक्षाबन्धन पर्व के दिन दिनांक -03.08.2020 को बंदियों को वितरित किया जाएगा। मुलाकात व्यवस्था पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगी। खाद्य सामग्री / मिटाई इत्यादि को किसी भी रूप में स्वीकार नहीं किया जाएगा। कारागार के बाहर एक काउन्टर स्थापित किया जाएगा। काउन्टर पर कोविड हेल्प डेस्क सम्बन्धी शासनादेश में दिये गये निर्देशानुसार कार्मिकों की ड्यूटी लगायी जाएगी तथा बचाव हेतु लिक्विड सैनेटाईजर,मास्क , फेसकवर, ग्लब्स, हैण्ड सैनेटाईजर / साबुन तथा वांछित स्टेशनरी/लिफाफा आदि की व्यवस्था कारागार स्तर पर की जाएगी। पावती डेस्क पर तैनात कार्मिक द्वारा कि बंदी का नाम/पिता व विवरण इत्याति एक पावती पर अंकित किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *