थानाध्यक्ष ललिया व चौकी प्रभारी मथुरा किए गए लाइन हाजिर

बलरामपुर ।  जनपद बलरामपुर के थाना ललिया में तैनात थाना अध्यक्ष राजेंद्र कुमार राय को पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा ने तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया है । उनके स्थान पर क्राइम ब्रांच में  तैनात जयदीप दुबे को थाना ललिया का थाना अध्यक्ष बनाया गया है । बता दें कि जन एक्सप्रेस ने थाना ललिया में गरीबों तथा पीड़ितों की फरियाद ना सुनने की खबर प्रकाशित की थी। थाना ललिया क्षेत्र के एक गांव में नाबालिग किशोरी के साथ गैंगरेप जैसी घटना को भी ललिया थाने में दर्ज नहीं किया गया था । जिसकी खबर जन एक्सप्रेस में प्रमुखता से प्रकाशित की गई और पूरे मामले पर पुलिस अधीक्षक से जानकारी मांगी गई, जिसके बाद उन्होंने खबर का संज्ञान लेते हुए थानाध्यक्ष ललिया व पुलिस चौकी मथुरा प्रभारी कुलदीप त्रिपाठी सहित दीवान को भी लाइन हाजिर कर दिया । 
बताते चलें कि थाना ललिया क्षेत्र के ग्राम घूमनाहवा में 15 सितंबर की रात उसी गांव के कुछ दबंग लोगों द्वारा 15 वर्षीय किशोरी को सोते समय घर से उठाकर गांव के बाहर मक्के के खेत में 4 लोगों द्वारा दुराचार किए जाने की घटना प्रकाश में आई थी। अपना दुखड़ा सुनाते हुए पीड़ित लड़की तथा उसकी मां ने बताया कि पीड़ित लड़की के पिता परदेस में रोजी रोजगार करने गए हुए हैं वह अपनी मां के साथ घर में रहती है। गरीबी के कारण घर भी काफी दयनीय स्थिति में है । घर में कोई दरवाजा खिड़की नहीं है। छप्पर का घर जिसमें टटिया लगा कि बंद किया जाता है। घटना की सूचना पीड़ित लड़की व उसकी मां ने थाने पर जाकर दी तथा गांव के ही 4 लोगों को नामजद करते हुए तहरीर दिया और अपनी व्यथा सुनाई  ।ललिया थाने की संवेदनहीन हो चुकी पुलिस को मासूम लड़की की दर्द ना तो सुनाई दी और ना ही उसकी माली हालत पर तरस आई। लड़की का मेडिकल कराकर मुकदमा पंजीकृत करने के बजाए आरोपियों के साथ सांठगांठ कर सुलह समझौता कराने का प्रयास पुलिस द्वारा किया गया। ललिया पुलिस द्वारा हफ्तों तक मुकदमा पंजीकृत नहीं किया गया। ललिया थाने पर न्याय ना मिलते देख पीड़ित लड़की अपनी मां के साथ पुलिस कार्यालय पहुंची, जहां पर पुलिस अधीक्षक से मुलाकात नहीं हुई । अपर पुलिस अधीक्षक ने उसकी फरियाद को सुना और ललिया थाना को तत्काल मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। अपर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर भी ललिया पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की। इसके बाद तीसरे दिन 24 सितंबर को पीड़ित लड़की अपनी मां के साथ पुनः पुलिस ऑफिस पहुंच गई । लड़की ने अपना दर्द जन एक्सप्रेस संवाददाता के सामने भी बयां किया, जिसके बाद पुलिस अधीक्षक से पूरे मामले पर बात की गई और खबर प्रकाशित किया गया। जन एक्सप्रेस ने अपने खबर के माध्यम से ललिया पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए । खबर का संज्ञान लेते हुए पुलिस अधीक्षक ने थाना अध्यक्ष  ललिया, चौकी प्रभारी मथुरा तथा ललिया थाने के दीवान को लाइन हाजिर कर दिया । पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर पीड़ित लड़की की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *