स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इंडियन बैंक ने एनपीए खाताधारक किसानों को कई तरह की छूट

जन एक्सप्रेस संवाददाता।
लखीमपुर खीरी।
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इंडियन बैंक ने एनपीए खाताधारक किसानों को कई तरह की छूट देने का फैसला किया है, जिससे वह अपना कर्जा आसानी से अदा करके दोबारा खाता चालू करा सकते हैं। सहायक महाप्रबंधक मनोज कुमार शर्मा ने बताया कि जनपद में 18,452 किसानों के खाते एनपीए (खराब) हो चुके हैं, जिन पर करीब 269 करोड़ रुपये बकाया है। उन्होंने कहा कि किसानों का ब्याज माफ होगा ही और मूलधन में भी छूट दी जाएगी। इस योजना में लघु एवं सीमांत किसानों को ज्यादा फायदा मिलेगा।इंडियन बैंक ने पूरे जनपद में 60 हजार किसानों के किसान क्रेडिट कार्ड बनाए हैं। इनमें 18452 किसानों के खाते एनपीए होने से बंद हैं। इससे किसान अपने खातों का संचालन नहीं कर पा रहे हैं और उन पर ब्याज भी बढ़ता जा रहा है। सहायक महाप्रबंधक ने पत्रकार वार्ता में बताया कि एक मुश्त समाधान एवं फसली ऋण अभियान के तहत सितंबर 2020 तक किसानों को छूट देने की प्रक्रिया चलेगी। किसानों के अलावा छोटे दुकानदारों समेत एनपीए खाताधारकों को छूट देकर समझौता प्रस्तावों के माध्यम से पुराने ऋणों से मुक्त कर दिया जाएगा। इसके लिए ऐसे किसानों को दो सप्ताह के अंदर अपनी बैंक शाखा से संपर्क करके समझौता प्रस्ताव और समझौता राशि जमा करनी होगी। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर प्रस्तावों को निस्तारित करके उनके ऋण खाते इसी अगस्त में ही बंद करने की कार्रवाई की जाएगी, जिसके बाद किसान नए फसली ऋण के लिए आवेदन कर सकेगा। फसली ऋण में फसल बीमा योजना की सुविधा लेने वाले किसानों को ब्याज पर सालाना तीन प्रतिशत छूट मिलेगी, जिससे किसानों को तीन लाख तक फसली कर्ज पर मात्र चार प्रतिशत ही ब्याज देना पड़ेगा। सहायक महाप्रबंधक ने बताया कि लखीमपुर मंडल में जुलाई माह में विशेष समझौता योजना का लाभ 1900 एनपीए बकायेदारों को मिला, जिनमें करीब 1800 किसानों ने 14 करोड़ के ऋण चुकाए हैं। इस दौरान उपमंडल प्रमुख मोहर सिंह मीणा, एलडीएम जितेंद्र नाथ श्रीवास्तव मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *