अंतरप्रांतीय तेल तस्करी का खेल जोरों पर,यूपी से एमपी ले जाया जा रहा डीज़ल-पेट्रोल

तेल के इस खेल मे राजस्व की भारी हानि,जिम्मेदार मौन

मारकुंडी थाना क्षेत्र के इंटवां डुड़ैला पेट्रोल टंकी तेल हो रहा चोरी

विशेष रिपोर्ट – सचिन वंदन

चित्रकूट। अंतरप्रांतीय सीमा पर तेल तस्करी का खेल जोरों पर चल रहा है। तेल के इस खेल से जहां सरकार को हर दिन लाखों रुपए के राजस्व से हाथ धोना पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर जिले में पेट्रोल-डीजल का अवैध कारोबार भी पनप रहा है। दरअसल, यूपी व एमपी में पेट्रोल-डीजल के दामों में भारी अन्तर है।मध्यप्रदेश की तुलना में उत्तर प्रदेश में डीज़ल और पेट्रोल सस्ता होने की वजह से अब इसकी स्मगलिंग की जाने लगी है।यूपी-एमपी सीमा से सटे यूपी के पेट्रोल पंपों से मध्यप्रदेश ले जाया जा रहा है। यूपी का डीज़ल एमपी मे बेंचने का खेल जारी है। छोटे टैंकरों समय बार्डर पार कर एमपी ले जाया जा रहा है। यूपी से सीधे एमपी पहुंचने वाले आठ रूपये लीटर सस्ता डीज़ल इंटवां डुड़ैला पेट्रोल टंकी से मझगवां के रास्ते आगे ले जाया जा रहा है। यूपी से अपेक्षाकृत मध्यप्रदेश मे डीज़ल 8 से 10 रूपये लीटर महंगा है। जिसके चलते अवैध कारोबार को बढावा मिल रहा है। सीमांचल क्षेत्रों मे स्थित पेट्रोल पंपों से छैटे टैंकरों के जरिए कई हजार लीटर रोज मध्यप्रदेश के सतना समेत अन्य जिलों मे पहुंच रहा है। जिसके कारण मध्यप्रदेश को परोक्ष तो उत्तर प्रदेश को अपरोक्ष रूप से हानि हो रही है। इस कार्य मे दोनों राज्यों की पुलिस की भूमिका संदिग्ध है। रात तो रात दिनदहाड़े बेखौफ होकर पेट्रोल टंकियों पर टैंकरों को भरा जाता है। जबकि फुटकर वाहनों को खड़ाकर काफी देर इंतजार कराया जा रहा है। यूपी से डिज़ल ले जाकर अधिक कीमतों पर बेंचा जा रहा है। इस संबध मे जब डीएसओ ध्रुवराज यादव से बातचीत की तो कहा हमारे अधिकार क्षेत्र मे नहीं आता है। जबकि जिलापूर्ति विभाग के ही अंंडर मे आता है। इससे साफ हो रहा है कि जिलापूर्ति विभाग की भूमिका संदिग्ध है। पुलिस भी इस अवैध धंधे मे संलिप्त नज़र आ रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *