पति ने की रजिस्ट्री सम्पत्ति की पत्नी ने भू माफियाओं के गैंग के सदस्य के नाम कर दिया इकरारनामा

पीड़ित ने भू माफिया समेत 5 लोगों पर जालसाजी की लिखाई रिपोर्ट भू माफिया पुनः रच रहे हैं षड्यंत्र पीड़ित को आशंका है की भू माफिया कर सकते हैं उसकी हत्या

जन एक्सप्रेस/सुनहरा।
लखीमपुर-खीरी।
भू-माफियाओं द्वारा सरकारी एवं निजी सम्पत्तियों पर अवैध कब्जा करने की शिकायतें शासन एवं प्रशासन स्तर पर प्राप्त होती रहती हैं। ऐसे भूमाफियाओं को चिन्हित कर उनके विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही किया जाना आवश्यक है, ताकि जनमानस में सुरक्षा की भावना उत्पन्न हो। सार्वजनिक एवं निजी भूमि पर भू-माफियाओं द्वारा अवैध कब्जे के प्रकरण आए दिन सामने आते हैं जो पूरा अपना गैंग बना कर करते हैं काम गरीबों की भू हथियाना धोखाधड़ी करके इनकी दिनचर्या में शामिल हैं ऐसे ही एक मामले में भूमाफिया शकील अहमद सहित 5 लोगों के विरुद्ध कोतवाली सदर लखीमपुर में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की गई है। रिपोर्ट में एक संपत्ति को धोखाधड़ी करके अपने गैंग के सदस्य रफीक के नाम इकरारनामा करने का आरोप है।प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बा खीरी के मोहल्ला सैयदवाड़ा निवासी कुमारी अर्शिया खान ने अपने पड़ोस में रहने वाले मोहम्मद अली किरमानी के मकान के अंदर का कुछ भाग मोहम्मद अली किरमानी से दिनांक 26.2.2018 बैनामा द्वारा खरीदा था जिसकी रजिस्ट्री तहसील लखीमपुर स्थित उपनिबंधक कार्यालय में हुई थी। जिसका बही संख्या-1 जिल्द संख्या-11859 पृष्ट 225 से 252 तक तथा क्रमांक 4408 पर दिनांक 26.2.18 है। बैनामा होने से पूर्व मोहम्मद अली किरमानी ने अर्शिया खान को खरीदे गए मकान के पर कब्जा दे दिया था जो आज भी उनके कब्जे में है। इस संपत्ति को धोखाधड़ी जालसाजी की कूट रचना करके भू माफिया शकील अहमद ने मोहम्मद अली किरमानी की पत्नी  नूरजहां को अपने जाल में फंसा कर अपने गैंग के सदस्य रफीक निवासी मोहल्ला कटरा के नाम बेहलाफुसलाकर उपरोक्त संपत्ति का सौदा दो लाख पचास हजार का फर्जी सौदा दिखाकर व पचास हजार बतौर बयाना दिखाकर रजिस्टर्ड इकरारनामा कब्ज़ा रहित दो वर्ष करा दिया। रजिस्टर्ड इकरारनामा में नूरजहां ने उपरोक्त बिकी हुई संपत्ति को अपनी संपत्ति बताते हुए व कब्जा मालिक बताकर दिखाते हुए दिनांक 25.5.2019 को ये रजिस्टर्ड इकरारनामा करा दिया। जिसका बही संख्या 1, जिल्द संख्या 12929, पृष्ठ संख्या 223 से 232 क्रमांक 7252 दिनांक 25.5.19 है। इस प्रकार के कार्य भू माफिया शकील अहमद बरसों से करता चला आया है। संपत्ति में झगड़ा डालकर अपने गैंग के सदस्यों के नाम फर्जी बैनामें व इकरारनामें कराता रहा है।  नूरजहां ने बिकी हुई संपत्ति को जालसाजी धोखाधड़ी करके भू माफिया के कहने पर बिकी हुई संपत्ति को दुबारा बेचने का अपराध किया है और लाभ अर्जित किया है। की रिपोर्ट थाना कोतवाली लखीमपुर में अर्शिया खान के पिता ने दर्ज कराई है जिसमें नूरजहां उनके पति मोहम्मद अली किरमानी, साजिश कर्ता व गवाह भू माफिया शकील अहमद निवासी मोहल्ला सैयदवाड़ा कस्बा व थाना खीरी भू माफिया के गैंग का सदस्य रफीक निवासी मोहल्ला कटरा कस्बा व थाना खीरी के अतिरिक्त गवाह धर्मेंद्र कुमार सक्सेना निवासी हाथीपुर लखीमपुर शहर थाना कोतवाली सदर शामिल है। प्रथम सूचना रिपोर्ट का मुकदमा अपराध संख्या 1039 धारा 419, 420, 467, 468 वह 471 आईपीसी है। भूमाफिया शकील अहमद पर इस प्रथम सूचना रिपोर्ट को मिलाकर 10आपराधिक मुकदमे जनपद के विभिन्न थानों में दर्ज हैं। गैंग के सदस्य मोहम्मद अली किरमानी पर थाना खीरी में दो व थाना कोतवाली लखीमपुर में एक कुल तीन मुकदमे दर्ज है।गैंग के अन्य सदस्य आरोपी रफीक पर भी थाना खीरी में दो व थाना कोतवाली लखीमपुर में एक कुल तीन मुकदमे पुलिस में दर्ज है।गंभीर धाराओं में दर्ज मामलो को लेकर इनकी जल्द गिरफ्तारी किये जाने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *