पति-पत्नी को अलग अलग प्रधानमंत्री योजना का मिला लाभ प्रधान मंत्री आवास योजना चढी भ्रष्टाचार की भेंट

जन एक्सप्रेस/मोबीन अहमद
सिंगाही खीरी
। सरकार भले ही गरीबों को प्रधानमंत्री आवास दिलाकर लाभान्वित करने का दावा कर रही हो लेकिन अभी भी बहुत से गरीब परिवार इसठ योजना से वंचित है वहीं अपात्रों को आवास दिये जाने का मामला सामने आया है।नगर पंचायत के वार्ड नं चार में पति-पत्नी को अलग-अलग योजना से आवास देकर सरकारी धनराशि के दुरुपयोग का मामला सामने आया है। पात्र लाभार्थियों को केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना और प्रदेश की प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत किसी एक योजना का लाभ दिया जा सकता है। इसके उलट एक ही घर में पति-पत्नी के नाम अलग-अलग योजना से आवास दिए जाने का मामला आने लोगों में चर्चा बना हुआ है। बतातें चले कि ग्राम पंचायत निवासी गोपाल को प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना से लाभ दिया गया था जबकि इनकी पत्नी जग्गा को प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना से लाभान्वित किया गया है। इसी तरह जगमोहन को प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास दिया गया, जबकि इनकी पत्नी को प्रधानमंत्री शहरी आवास मिला है। इसी गांव के प्यारेलाल को प्रधानमंत्री आवास मिला। पति-पत्नी को अलग-अलग आवास देना साबित करता है कि अधिकारी व सर्वयर की संलिप्तता जरूर होगी।जबकि कस्बे के कई पात्र खुलेआम आसमान के निचे रह रहे हैं। केन्द्र से लेकर प्रदेश सरकार आवास योजना में पारदर्शिता लाने के तमाम प्रयास कर रही है। इसके बावजूद सांठ-गांठ खाऊ कमाऊ नीति पर कोई असर पड़ता नहीं दिखाई पड़ रहा है। इस बाबत पूछने पर अधिशासी अधिकारी एसडीएम निघासन ओपी गुप्ता ने बताया जानकारी मिली है, मामले की जांच की जाएगी गोलमाल करने वालो पर कार्यवाही की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *