डेंगू के लक्षण एवं उससे बचने का तरीका सतर्कता व सावधानी के टिप्स दिए सीएमओ ने

जन एक्सप्रेस/मुंशीर
लखीमपुर खीरी।
शनिवार को  डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह के निर्देश पर सीएमओ डॉ० मनोज अग्रवाल ने डेंगू रोग से बचाव के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि डेंगू का मच्छर सफेद चित्तीदार होता है। डेंगू के लक्षणों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि तेज सिर दर्द होना, बुखार का होना, जोड़ों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द होना, जी-मिचलाना, उल्टी होना, गंभीर मामलों में नाक आंख, मसूड़ों से खून आना, शरीर पर लाल चकत्ते पड़ना है। उन्होंने बताया कि प्लेटलेट्स का कम होना डेंगू का लक्षण नहीं है, यह अन्य कारणों से भी कम होती हैं।सीएमओ डॉ० मनोज अग्रवाल ने डेंगू से बचाव के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि डेंगू फैलाने वाला मच्छर रुके हुए साफ पानी में पनपता है जैसे कि कूलर,पानी की टंकी,पक्षियों के पानी पीने के बर्तन, फूलदान, नारियल के खोल टूटे हुए बर्तन, पुराने टायर, फ्रिज की ट्रे इत्यादि में पानी जमा न होने दें। पानी से भरे बर्तन व टंकियों को ढक कर रखें। सप्ताह में एक बार कूलर की टंकी को खाली कर के सुखा दे। यह मच्छर दिन के समय काटता है। ऐसे कपड़े पहने जो बदन को ढके। डेंगू के उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है। बुखार उतारने के लिए पेरासिटामोल ले सकते हैं। तेज बुखार होने पर डॉक्टर की सलाह ले। डेंगू के रोगी को बिना मच्छरदानी के ना सोने दे। रोगी को उपचार केंद्र तक पहुंचाने हेतु 108 एंबुलेंस की सुविधा का उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *