बॉर्डर से भारतीय महानगरों को जाने बाली निजी बसों के दलाल सीमा पार तक फैलाए हुए है अपना जाल

जन एक्प्रेस/डीपी मिश्रा।
पलियाकलां/गौरीफंटा खीरी।
इंडो नेपाल सीमा से सटे जिला के गौरीफंटा बॉर्डर पर निजी बस यूनियन के संरक्षण में नेपाली दलालों का फैल रहा है मकड़जाल ।जिसके चलते सीमा पार नोमैन्स लैंड पर  आबाद धोकेबाजर में सक्रिय नेपाली दलाल पलिया की बिभिन्न ट्रांसपोर्ट कंपनी के टिकट काट कर नेपाली नागरिको को कोरोना के नाम पर लूट रहे हैं इस गोरखधंधे से दोनो देश की सुरक्षा एजेंसियां  सब कुछजानकर भी अनजान बनी हुई है जिसके फलस्वरूप हौसले बुलंद नेपाली दलाल सुबह से रात्रि 10 बजे तक सीमा पर बनी दुधवा की कैंटीन की परिक्रमा करते रहते हैं इन दलालों की निरंतर परिक्रमा करने से न कोरोना ,और न ही बॉर्डर के नियम कानून होता है सीमा पर सक्रिय नेपाली दलाल उप्र की रोडवेज बसों के राजस्व को  भी क्षति पहुचा रहे हैं। जिसमे इंडो नेपाल सीमा पर तैनात भारतीय सुरक्षा एजेंसियां  भरपूर सहयोग कर रही है ।बस यूनियन एवं सुरक्षा एजेंसियों का संरक्षण प्राप्त संदिग्ध कार्यो में लिप्त  दलाल दिल्ली का 1200 से 2000,  मथुरा का 1500,एवं पंजाब का 2500से 3500 रुपये प्रति यात्री बसूल रहे है इसके अतिरिक्त मैजिक ,एवं चार पहिया निजी वाहन चालक गौरीफंटा से पलिया तक प्रति यात्री 200 से 500 रुपये तक बसूल रहे। जबकि रोडवेज परिचालकों के अनुसार दिल्ली का, 550, मथुरा का 480,पंजाब का 895 एवं पलिया का 40 रुपये किराया है सीमा पर सक्रिय दलाल  कोरोना के चलते डर भय दिखा कर नेपालियों के धोकेबाजर बाजार में टिकट काट कर लूट रहे हैं । इतना ही नही  निजी बसों के दलाल नेपाली नागरिकों को भारतीय नागरिकों को फर्जी आधार कार्ड बनाकर भारतीय सीमा में अवैध घुसपैठ करा रहे हैं। भारतीय नागरिक बनाने के लिए आधार कार्ड उपलब्ध कराने के लिये 500 रुपये ले रहे हैं । गौरीफंटा बॉर्डर से प्रतिदिन लगभग 2 ,3 हजार नेपाली नागरिक भारतीय सीमा में प्रवेश कर रहे हैं।नेपाल की धोकेबाजर बाजार  में दलाल सैकड़ो नेपालियों को नोमैन्स लैंड पर स्तिथ दुधवा नेशनल पार्क के आरक्षित जंगल से भी घुसपैठ करा रहे हैं ।इससे सीमा सुरक्षा पर भी  सवालिया निशान लग गया है।जबकि कोरोना संक्रमण को भी बढ़ावा मिल जाये इस सम्भाना से इनकार नही किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *